Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

Megamenu

Last Updated : 20-07-2020

पूर्व प्रस्थान उन्मुखीकरण प्रशिक्षण (पीडीओटी)

गंतव्य देश में भाषा, संस्कृति, क्या करें और क्या न करें के संबंध में संभावित प्रवासी श्रमिकों को उन्मुख करने, उत्प्रवास प्रक्रिया और कल्याणकारी उपायों की आवश्यकता को देखते हुए पीडीओटी कार्यक्रम शुरू किया गया है। विदेश मंत्रालय (एमईए) कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय (एमएसडीई) की सहायता से पीडीओटी कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। एनएसडीसी इस कार्यक्रम की कार्यान्वयनकर्ता एजेंसी है।

प्रस्थान पूर्व उन्मुखीकरण प्रशिक्षण में अब तक:

  • पीडीओटी कार्यक्रम विदेश मंत्रालय द्वारा आयोजित प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण (टीओटी) के अंतर्गत प्रशिक्षण प्राप्त प्रशिक्षकों के माध्यम से दिया जाता है। पीडीओटी के अंतर्गत अब तक 68 प्रशिक्षकों को प्रमाण-पत्र दिए गए हैं।
  • प्रस्थान पूर्व उन्मुखीकरण प्रशिक्षण (पीडीओटी) मॉड्यूल शुरू किए गए थे तथा विदेश मंत्रालय और प्रवास हेतु भारतीय केंद्र द्वारा आईआईएससी प्रशिक्षकों हेतु पहला प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण (टीओटी) मार्च 2017 में आयोजित किया गया था। 2017 से 4 टीओटी कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं।
  • प्रायोगिक चरण में एनएसडीसी ने कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में प्रवासी श्रमिकों के लिए 10 जनवरी, 2018 से एक दिवसीय पीडीओटी कार्यक्रम शुरू किया है। पीडीओटी 7 शहरों (मुंबई तथा दिल्ली प्रत्येक में 2 स्थान, कोच्चि, लखनऊ, चंड़ीगढ़, गोरखपुर, चेन्नई प्रत्येक में एक स्थान) के 9 केंद्रों में प्रचालनरत है:
    • ­ दिल्ली – ओरियन एडुटेक प्रा. लि., मंदिर मार्ग तथा डोन बोस्को टेक्नीकल इंस्टीट्यूट, ओखला
    • ­ मुंबई - अस्माक, साकीनाका और अस्माक, विदेश भवन
    • ­ कोच्चि - एस्पायर अकादमी (एराम स्किल्स), एर्नाकुलम
    • ­ लखनऊ – महेंद्रा कौशल
    • ­ चेन्नई – भारतीय उद्योग संघ (नवंबर 2019 में संचालित)
    • ­ चंड़ीगढ़ – उद्यमशीलता विकास हेतु क्षेत्रीय केंद्र (नवंबर 2019 में संचालित)
    • ­ गोरखपुर – आईएल एंड एफएस स्किल्स पीएमकेके गोरखपुर (नवंबर 2019 में संचालित)
  • 24 दिसंबर, 2019 तक सभी 9 केंद्रों में प्रशिक्षित उम्मीदवारों की कुल संख्या 79,604 है।
  • चेन्नई, गोरखपुर तथा चंड़ीगढ़ में संचालित केंद्र नवंबर 2019 माह में शुरू किए गए थे।