Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

Megamenu

Last Updated : 28-08-2020

व्यवसाय का आवंटन

भारत सरकार के अनुसार (कार्य आवंटन) नियमावली, 1961 *

क्रमांक विषय
1. उपयुक्त कौशल विकास ढांचे को विकसित करने, व्यावसायिक और तकनीकी प्रशिक्षण के माध्यम से कुशल श्रमशक्ति की मांग और आपूर्ति के बीच के अंतर को समाप्त करने, कौशल उन्नयन, नए कौशल के निर्माण, नवीन सोच और प्रतिभा के निर्माण के लिए न केवल मौजूदा नौकरियों के लिए, बल्कि भविष्य में सृजित होने वाली नौकरियों के लिए भी सभी संबंधितों के बीच समन्वय स्थापित करना।
2. मौजूदा कौशलों और उनके प्रमाणीकरण की मैपिंग करना।
3. शैक्षिक संस्थानों, व्यवसाय और अन्य सामुदायिक संगठनों के बीच मजबूत भागीदारी के माध्यम से युवा उद्यमशीलता शिक्षा और क्षमता का विस्तार और इसके लिए राष्ट्रीय मानक निर्धारित करना।
4. कौशल विकास से संबंधित समन्वय की भूमिका।
5. महत्वपूर्ण क्षेत्रों में बाजार अनुसंधान और प्रशिक्षण पाठ्यक्रम तैयार करना।
6. उद्योग-संस्थान सम्बद्धता।
7. इस गतिविधि में सार्वजनिक निजी भागीदारी तत्व लाना – उस उद्योग के साथ साझेदारी करना जिसे कुशल श्रमशक्ति की आवश्यकता है।
8. बाजार की आवश्यकताओं और कौशल विकास के संबंध में अन्य सभी मंत्रालयों/विभागों के लिए व्यापक नीतियां बनाना।
9. सॉफ्ट स्किल के लिए नीतियाँ बनाना।
10. सूचना प्रौद्योगिकी और कंप्यूटर शिक्षा से संबंधित बड़े कौशल विकास।
11. कौशल सेट की अकादमिक तुल्यता।
12. औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों से संबंधित कार्य।
13.
  • राष्ट्रीय कौशल विकास एजेंसी
  • राष्ट्रीय व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण परिषद
  • राष्ट्रीय कौशल विकास निगम
  • राष्ट्रीय कौशल विकास न्यास
14. विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए उद्यमशीलता विकास कौशलीकरण।
15.
  • राष्ट्रीय उद्यमशीलता और लघु व्यवसाय विकास संस्थान, नोएडा।
  • भारतीय उद्यमशीलता संस्थान, गुवाहाटी।

* कार्य आवंटन अधिसूचना दिनांक 31-07-2014: कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालयpdfडाउनलोड(272.59 KB)