Megamenu

राष्ट्रीय उद्यमशीलता और लघु व्यवसाय विकास संस्थान (निस्बड)

राष्ट्रीय उद्यमशीलता और लघु व्यवसाय विकास संस्थान, कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय का एक प्रमुख संगठन है, जो उद्यमशीलता और कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण, परामर्श, अनुसंधान आदि में कार्यरत, इस संस्थान की प्रमुख गतिविधियों में प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण, प्रबंधन विकास कार्यक्रम, उद्यमशीलता-सह-कौशल विकास कार्यक्रम, उद्यमशीलता विकास कार्यक्रम और क्लस्टर हस्तक्षेप शामिल हैं। यह संस्थान विदेश मंत्रालय के तत्वावधान में आईटीईसी राष्ट्र प्रतिभागियों के लिए सक्रिय रूप से अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण प्रदान का रहा है। यह संस्थान वर्ष 2007-08 से वित्तीय रूप से आत्मनिर्भर है।

यह संस्थान ए-23, सेक्टर-62, नोएडा, उत्तर प्रदेश के एकीकृत परिसर तथा देहरादून, उत्तराखंड के एक क्षेत्रीय कार्यालय से संचालित होता है। यह लगभग 10,000 वर्ग मीटर क्षेत्र में स्थापित है जिसमें 40,000 वर्ग फुट निर्मित क्षेत्र है। इसकी अवसंरचना में लाइब्रेरी के अतिरिक्त 8 क्लास रूम, 1 प्रेक्षाग्रह और 1 सम्मेलन कक्ष शामिल हैं। इसमें एक छात्रावास भी है, जिसमें 32 कमरे और अन्य सुविधाएं उपलब्ध हैं।

प्रमुख गतिविधियाँ

संस्थान की प्रमुख गतिविधियों में अन्य के साथ-साथ निम्नलिखित शामिल हैं:

  • प्रशिक्षण: संस्थान द्वारा आयोजित किए जा रहे प्रशिक्षण कार्यक्रमों में, अन्य कार्यक्रमों के साथ-साथ प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम (टीटीपी), प्रबंधन विकास कार्यक्रम(एमडीपी); विभागाध्यक्षों और वरिष्ठ अधिकारियों के लिए अभिविन्यास कार्यक्रम; उद्यमशीलता विकास कार्यक्रम (ईडीपी), उद्यमशीलता-सह-कौशल विकास कार्यक्रम (ईएसडीपी) और विभिन्न लक्षित समूहों के लिए विशेष रूप से तैयार किए गए प्रायोजित कार्यकलाप शामिल हैं।

  • अनुसंधान/मूल्यांकन अध्ययन: प्राथमिक/बुनियादी अनुसंधान के अतिरिक्त, संस्थान विभिन्न सरकारी स्कीमों/कार्यक्रमों की समीक्षा/मूल्यांकन, प्रशिक्षण का आवश्यकता आधारित मूल्यांकन-कौशल अंतराल अध्ययन, औद्योगिक संभावित सर्वेक्षण आदि कार्य कर रहा है। इन गतिविधियों का व्यापक उद्देश्य देश भर में उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करना है।

  • पाठ्यक्रम पाठ्यचर्या/पाठ्य विवरण तैयार करना: संस्थान ने उद्यमशीलता विकास कार्यक्रमों को आयोजित करने के लिए मॉडल पाठ्यक्रम तैयार किए हैं। ये समान प्रशिक्षण कार्यक्रमों के मानकीकरण में सहायता भी करते हैं।

  • प्रकाशन और प्रशिक्षण सहायता: संस्थान उद्यमशीलता और संबद्ध विषयों पर विभिन्न प्रकाशन भी निकालता है। संस्थान देश के उद्यमी परिदृश्य के तहत गतिविधियों, उपलब्धियों और हस्तक्षेपों को दर्शाने वाला एक त्रैमासिक समाचार पत्र भी निकालता है।

  • क्लस्टर हस्तक्षेप: संस्थान सक्रिय रूप से विभिन्न क्षमताओं में क्लस्टर में विकासात्मक कार्यक्रमों (सॉफ्ट और हार्ड इंटरवेंशन) को शुरू करने में शामिल रहा है। संस्थान ने अब तक कुल 24 औद्योगिक समूहों का दायित्व संभाला है।

  • ऑनलाइन और इलेक्ट्रॉनिक लर्निंग मॉड्यूल:संस्थान ने उद्यमशीलता विकास कार्यक्रमों के लिए एक ई-लर्निंग मॉड्यूल (हिंदी और अंग्रेजी) विकसित किया है। मॉड्यूल को विभिन्न राज्यों में लागू किया गया था। इसके अतिरिक्त, संस्थान द्वारा आरंभ किए गए ऑनलाइन शिक्षण स्नैपशॉट मॉड्यूल में साइबर सुरक्षा, संचार कौशल, जावा, व्यक्तित्व विकास, गणितीय मॉडलिंग, वेब डिजाइनिंग और क्लाउड कम्प्यूटिंग, खुदरा तथा उद्यमिता, रोजगार एवं जीवन कौशल पर आधारित मॉड्यूल शामिल हैं।

  • क्षेत्रीय कार्यालय, देहरादून: अनुसंधान कार्य करता है और विशेष रूप से उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश राज्यों से संबंधित लाभार्थियों को प्रशिक्षण और परामर्श सेवाएं प्रदान करता है।

  • प्रशिक्षार्थियों के लिए उद्यम सृजन और रोजगार सहायता के लिए सहयोग: संस्थान स्व-रोजगार में रुचि रखने वाले उम्मीदवारों को सहायता सेवाएं प्रदान करता है और अगर वे स्वरोजगार का विकल्प नहीं चुनते हैं तो उन्हें उपयुक्त मजदूरी रोजगार ढूँढने में सहायता आश्वासन देता है। इस के लिए भावी कर्मचारियों और प्रशिक्षित उद्यमियों हेतु रोजगार मेला नामक पारस्परिक क्रिया मंच का आयोजन किया जाता है।

  • अंतर्राष्ट्रीय गतिविधियाँ: संस्थान विदेश मंत्रालय की फैलोशिप आईटीईसी/स्काप/कोलंबो योजना के अंतर्गत विभिन्न देशों के प्रतिभागियों के लिए 8-सप्ताह का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करता है। इसके अतिरिक्त, संस्थान विदेशी एजेंसियों के लिए विशेष/अनुरोध प्रशिक्षण कार्यक्रमों को भी डिजाइन और संचालित करता है और विशेष रूप से विभिन्न क्षेत्रों की औद्योगिक क्षमता का आकलन करने में मुख्य रूप से परामर्श कार्य के माध्यम से अन्य देशों की सहायता कर रहा है। इस कार्यक्रम में प्रौद्योगिकी का संचार किया जा रहा है ताकि महामारी की स्थिति के पश्चात इसमें व्यवहार्यता हो।

  • परामर्शी सेवाएं (राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय): विशेषकर एमएसएमई के लिए उद्यमशीलता के क्षेत्र में परामर्श सेवाएं प्रदान करना है। यह सरकार या निजी क्षेत्र में उद्यमशीलता प्रशिक्षण में लगे अन्य संस्थानों को सलाह और परामर्श प्रदान करता है। सरकारों (केंद्र और राज्य दोनों) और विदेशी सरकारों के साथ-साथ उद्यमशीलता और एमएसएमई के क्षेत्र में सलाह देना है।

अभिनव उपलब्धियां

  • संस्थान ने ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए सामग्री को सफलतापूर्वक विकसित और वितरित किया है और अनेक बाजार संचालित ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए सामग्री और पाठ्यक्रम के लिए अपने संग्रहण को बढ़ाने की प्रक्रिया में है।

  • कोविड-19 स्थिति से निपटने के लिए संस्थान को ऑनलाइन मोड के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान करने हेतु अनुकूलित और विकसित किया है। संस्थान ने डिजिटल ऑनलाइन मंच के माध्यम से अपने अधिकांश प्रशिक्षणों का आयोजन और संचालन शुरू कर दिया है, जिसमें पीएमकेवीवाई साझेदार संस्थानों के लिए प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम, उद्यमशीलता और जीवन कौशल पर प्रशिक्षण एवं रक्षा मंत्रालय के प्रशिक्षण महानिदेशालय के लिए रिटेल टीम लीडर पर ईएसडीपी शामिल हैं। संस्थान डिजिटल मंचों के माध्यम से उद्यमशीलता प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए अन्य राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय निकायों के साथ संवाद बनाए हुए है।


अधिक जानकारी के लिए कृपया वेबसाइट http://www.niesbud.nic.in/.देखें।